उत्तराखंड

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ी खबर आयी सामने..

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ी खबर आयी सामने..

 

 

 

 

 

 

 

 

 

बोर्ड परीक्षा को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर के सभागार में परीक्षा को लेकर बुधवार को हुई बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए है। साथ ही परीक्षा तिथि और परीक्षा केंद्रों पर भी चर्चा हुई है। बता दे कि माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर की अध्यक्षता में रामनगर में सभी जिलों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में बोर्ड परीक्षाओं के लिए केंद्र निर्धारित किये गए।

 

 

 

 

 

 

उत्तराखंड: बोर्ड परीक्षा को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद रामनगर के सभागार में परीक्षा को लेकर बुधवार को हुई बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए है। साथ ही परीक्षा तिथि और परीक्षा केंद्रों पर भी चर्चा हुई है। बता दे कि माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर की अध्यक्षता में रामनगर में सभी जिलों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में बोर्ड परीक्षाओं के लिए केंद्र निर्धारित किये गए। इस बार परीक्षाओं के लिए प्रदेश भर में 1250 परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। इसमें चर्चा हुई की लिखित परीक्षा मार्च या अप्रैल माह में होगी। जबकि प्रयोगात्मक परीक्षा फरवरी माह में होगी।

आपको बता दे कि अबकी बार राज्य में 1250 केंद्रों में बोर्ड की परीक्षा होगी। बीते साल की तुलना में इस बार 83 परीक्षा केंद्र कम बने हैं। इन केंद्रों में 259340 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे। परीक्षा के लिए 1250 केंद्र बनाए गए हैं, जिसमें 40 एकल व 1210 मिश्रित केंद्र बनाए गए हैं। इस बार जनपद टिहरी में सबसे अधिक 145 परीक्षा केंद्र बनाए गए है। वहीं, चंपावत में सबसे कम 38 केंद्र बनाए गए हैं।

वहीं इसके अलावा हाईस्कूल में 132104 व इंटर में 127236 परीक्षार्थी शामिल होंगे, जिसमें हरिद्वार में सबसे अधिक 48322 व चंपावत में सबसे कम 6984 परीक्षार्थी है। प्रदेश में 198 संवेदनशील व 15 अतिसंवेदनशील केंद्र बनाए गए हैं। प्रयोगात्मक परीक्षा फरवरी में होगी, जबकि हाईस्कूल व इंटर की लिखित परीक्षा मार्च व अप्रैल के बीच में होंगी। वैसे परीक्षा तिथि निर्धारण की अलग से बैठक की जाती है। जिसमे बोर्ड परीक्षाओं के शुरू होने से लेकर परीक्षाओं की पूरी समय सारणी होती है।

बताया जा रहा है कि ऐसे में परीक्षा शुरू होने की तिथि के लिए परीक्षा समिति की उस बैठक का इंतज़ार करना बेहतर होगा। प्रदेश में इन परीक्षाओं को नकल विहीन करने के लिए इनमे से 198 संवेदनशील और 15 केंद्र अति संवेदनशील चिन्हित किये गए हैं। हालांकि उत्तराखण्ड विद्यालयी शिक्षा परिषद की परीक्षाओं में साल दर साल नकल के आंकड़ों में बहुत कमी आई है।

इसके साथ ही हाईस्कूल में 132104 व इंटर में 127236 परीक्षार्थी शामिल होंगे, जिसमें हरिद्वार में सबसे अधिक 48322 व चंपावत में सबसे कम 6984 परीक्षार्थी है। प्रदेश में 198 संवेदनशील व 15 अतिसंवेदनशील केंद्र बनाए गए हैं। प्रयोगात्मक परीक्षा फरवरी में होगी, जबकि हाईस्कूल व इंटर की लिखित परीक्षा मार्च व अप्रैल के बीच में होंगी। वैसे परीक्षा तिथि निर्धारण की अलग से बैठक की जाती है। जिसमे बोर्ड परीक्षाओं के शुरू होने से लेकर परीक्षाओं की पूरी समय सारणी होती है।

 

 

 

 

 

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top