भारत ने तोड़ा छह साल पुराना रिकॉर्ड, टेस्ट में हासिल की सबसे बड़ी जीत..

खेल

भारत ने तोड़ा छह साल पुराना रिकॉर्ड, टेस्ट में हासिल की सबसे बड़ी जीत..

भारत ने तोड़ा छह साल पुराना रिकॉर्ड, टेस्ट में हासिल की सबसे बड़ी जीत..

तीन दिसंबर से शुरू हुए दो मैच रिकॉर्ड बुक में हुए शामिल..

 

 

 

 

देश-विदेश: भारत ने न्यूजीलैंड को मुंबई में खेले गए टेस्ट में 372 रन से हरा दिया। यह टेस्ट क्रिकेट में भारत की सबसे बड़ी जीत रही। इस मैच में एक अजब संयोग निकलकर सामने आया है। इस टेस्ट से पहले रन के अंतर से भारत को सबसे बड़ी जीत दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर मिली थी।

3 दिसंबर से हुई टेस्ट मैच की शुरुआत..

तब 2015 में दक्षिण अफ्रीका को 337 रन से हराया था। संयोग की बात यह है कि भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टेस्ट मैच की शुरुआत भी 3 दिसंबर से हुई थी। भारत-न्यूजीलैंड के बीच मुंबई में खेला गया दूसरा टेस्ट भी इसी तारीख से खेला गया। अंतर बस यह रहा कि भारत ने दक्षिण अफ्रीका को पांच दिन में हराया था। वहीं न्यूजीलैंड टीम चार दिन में टेस्ट हार गई।

एक और संयोग भी आया सामने..

आपको बता दे कि एक और संयोग भी सामने आया है। न्यूजीलैंड को टेस्ट में सबसे बड़ी हार भारत के खिलाफ मिली है। हालांकि, इससे पहले कीवी टीम को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सबसे बड़ी हार मिली थी। यानी भारत के नाम दो सबसे बड़ी जीत न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मिली है और न्यूजीलैंड टीम को टेस्ट में सबसे बड़ी हार भारत और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मिली।

दक्षिण अफ्रीका से जुड़ा रहा है तार..

दक्षिण अफ्रीका ने 2007 में जोहानिसबर्ग में खेले गए टेस्ट में न्यूजीलैंड को 358 रन से हराया था। दोनों ही टीमों का संयोगवश जीत और हार में दक्षिण अफ्रीका से रिकॉर्ड जुड़ा है। भारत ने न्यूजीलैंड को मुंबई टेस्ट में हराकर सीरीज भी 1-0 से जीत ली। न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर बतौर कप्तान कोहली की ये लगातार चौथी जीत रही। न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत ने पिछले आठ में से सात टेस्ट जीते हैं।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने पहली पारी में 325 रन बनाए। जवाब में न्यूजीलैंड की टीम पहली पारी में 62 रन पर ढेर हो गई। इसके बाद दूसरी पारी भारत ने सात विकेट पर 276 रन बनाकर डिक्लेयर कर दी। 540 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड की टीम चौथे दिन 167 रन पर सिमट गई।

 

 

 

 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top