रुद्रप्रयाग में महिला का इलाज करने से डॉक्टरों ने किया मना..

उत्तराखंड

रुद्रप्रयाग में महिला का इलाज करने से डॉक्टरों ने किया मना..

रुद्रप्रयाग में महिला का इलाज करने से डॉक्टरों ने किया मना..

DM की फटकार के बाद हुआ ऑपरेशन..

 

 

 

उत्तराखंड: जिला चिकित्सालय रुद्रप्रयाग में इन दिनों खूब गुटबाजी देखने को मिल रही है। यहां चिकित्सक, पैरा मेडिकल स्टॉफ और कर्मचारियों के बीच गुटबाजी इस हद तक बढ़ गई है कि मरीजों का इलाज भी प्रभावित हो रहा है। स्थिति यहां तक पहुंच गई है कि अब मरीजों को इलाज के लिए सीधा मना ही कर दिया जा रहा है। एक महिला पथरी के ऑपरेशन के लिए अस्पताल में पहुंची ही थी कि महिला के ऑपरेशन के लिए डॉक्टरों ने मना कर दिया।

 

आपको बता दें कि बीते शनिवार को चिकित्सालय में एक महिला का पथरी का ऑपरेशन होना था। महिला बताए गए समय पर अस्पताल पहुंची और महिला को ऑपरेशन थिएटर में ले जाया गया लेकिन ऑपरेशन थिएटर में उचित इंतजाम नहीं होने के कारण महिला को 2 घंटे तक इंतजार करवाया गया और उसके बाद दोबारा से वार्ड में भेज दिया गया।

 

महिला के परिजनों ने आपत्ति जताई और चिकित्सकों से ऑपरेशन ना होने का कारण पूछा तो चिकित्सकों ने बताया गया कि ऑपरेशन को लेकर पूरी तैयारियां नहीं हैं। चिकित्सक लगातार अस्पताल स्टाफ की गलती बताते रहे। वहीं अस्पताल स्टाफ भी एक दूसरे के ऊपर इल्जाम डालते रहे। कुल मिलाकर अस्पताल स्टाफ की गुटबाजी और आपसी लड़ाई का खामियाजा आम मरीजों को भुगतना पड़ रहा है और इस गुटबाजी के चलते महिला का ऑपरेशन करने से साफ मना कर दिया गया। वह तो महिला के परिजनों ने जिलाधिकारी मनुज गोयल को स्थिति से अवगत कराया।मामला जब डीएम के पास गया तो तब जाकर मरीज का इलाज हो सका।

बीएस मेहता का कहना हैं कि रुद्रप्रयाग जिला अस्पताल में चिकित्सकों व स्टॉफ मरीजों के बीच आपसी तालमेल बेहद गड़बड़ा रखा है और दोनों के बीच लगातार गुटबाजी का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा। वहीं रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मनुज गोयल का कहना है कि जिला चिकित्सालय प्रबंधन और चिकित्सा सुविधाओं को लेकर लगातार शिकायतें मिल रही हैं। ऑपरेशन में व्यवस्थाओं के अभाव में देरी गंभीर लापरवाही है। इस संबंध में अस्पताल प्रबंधन से जवाब मांगा गया है।

 

 

 

 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top