रुद्रप्रयाग में बुलेरो अलकनंदा में समाई - UK News Network
उत्तराखंड

रुद्रप्रयाग में बुलेरो अलकनंदा में समाई

नदी में समाया बुलेरो वाहन, दो की मौत
वाहन के साथ डूबे पांच लोग, नहीं चल पाया कोई पता
अलकनंदा नदी में रेस्क्यू अभियान जारी
वाहन में सवार बताये जा रहे हैं चालक सहित नौ लोग
रुद्रप्रयाग। जिला मुख्यालय के जवाड़ी बाईपास पर एक बुलेरो वाहन अलकनंदा नदी में समा गया। वाहन में नौ लोग सवार बताये जा रहे हैं। वाहन से छिटककर पहाड़ी पर अटके चार लोगों की शिनाख्त हो गई है, जबकि पांच लोग अभी भी लापता चल रहे हैं और दो लोगों की मृत्यु हो गई है। वाहन का भी कुछ पता नहीं चल पाया है। सेना, पुलिस और एसडीआरएफ की ओर से अलकनंदा नदी में रेस्क्यू अभियान जारी है।

शुक्रवार सुबह साढ़े ग्यारह बजे के करीब तिलवाड़ा से एक बुलेरो वाहन सवारियों को भरकर रुद्रप्रयाग के लिए निकला। इस दौरान जवाड़ी बाईपास राजमार्ग पर वन विभाग कार्यालय के निकट वाहन अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में समा गया। बताया जा रहा है कि वाहन में नौ लोग सवार थे, जिनमें से चार लोग वाहन के नदी में गिरते समय पहाड़ी पर अटक गये। सभी घायलों को स्थानीय युवाओं, भारतीय सेना के जवान, पुलिस एवं एसडीआरएफ की मदद से खाई से बाहर निकाला गया। आपातकालीन सेवा 108 के जरिये सभी घायलों को जिला चिकित्सालय भेजा गया। जहां एक घायल को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया और गंभीर रूप से घायल दो लोगों को बेस चिकित्सालय रेफर किया गया। इनमें भी एक व्यक्ति ने रास्ते में दम तोड़ दिया।

वाहन का नदी में कुछ पता नहीं चल पा रहा है। दुर्घटना के समय आस-पास मौजूद लोगों ने वाहन से छिंटककर तीन लोगों को नदी में तैरते हुये भी देखा, लेकिन अलकनंदा नदी का बहाव तेज होने के कारण वह अपनी जान नहीं बचा सके। जबकि राहत-बचाव की टीम बाद में मौके पर पहुंची। घटना की सूचना मिलने पर जिला मुख्यालय में तैनात जैकेई रेजिमेंट कमांडिंग आॅफीसर अजय ठाकुर के नेतृत्व में सेना के जवान घटना स्थल पर पहुंचे और रेरक्यू का जिम्मा उठाया। जबकि पुलिस एवं एसडीआरएफ के जवानों ने भी पुलिस उपाधीक्षक श्रीधर प्रसाद बडोला और कोतवाली निरीक्षक दरवान सिंह पंवार के नेतृत्व में रेस्क्यू अभियान चलाया। तेज बारिश होने के कारण रेस्क्यू अभियान चलाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रेस्क्यू अभियान में स्थानीय युवकों ने भी बढ़-चढ़कर सेना के जवानों का साथ दिया।

अलकनंदा नदी का बहाव तेज होने के कारण समय पर नदी में रेस्क्यू अभियान शुरू नहीं हो पाया। बाद में वोट आने के बाद नदी में भी रेस्क्यू अभियान चलाया गया। स्थानीय विधायक भरत सिंह चैधरी भी घटना की सूचना मिलने के बाद घटना स्थल पहुंचे और जिला चिकित्सालय पहुंचकर घायलों का हालचाल जाना। उन्होंने कहा कि दुर्घटना में मृत लोगों के परिवारों एवं घायलों की सरकार की ओर से हर संभव मदद की जायेगी। वहीं भाजपा जिलाध्यक्ष विजय कप्रवाण, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चंडी प्रसाद भटट ने भी दुर्घटना पर गहरा दुख जताया। कोतवाली प्रभारी दरवान सिंह पंवार ने बताया कि वाहन में नौ लोग सवार बताये जा रहे हैं। चार लोग वाहन से छिंटक गये थे। दो व्यक्तियों को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया है, जबकि दो घायलों का उपचार चल रहा है। उन्होंने कहा कि वाहन एवं वाहन में सवार अन्य लोगों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

अलकनंदा नदी में सर्च अभियान जारी है। उन्होंने बताया कि दुर्घटना में सुमित रावत (23) पुत्र वीर सिंह निवासी सुमाड़ी तिलवाड़ा, पंकज रावत (21) पुत्र रणवीर सिंह निवासी कुमड़ी सिलगढ़ घायल हैं। जबकि गणेष (30) पुत्र प्रेम सिंह निवासी मेदनपुर सहित एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई। दूसरे मृतक व्यक्ति के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है। मृतक व्यक्ति की पहचान की जा रही है। दुर्घटना स्थल से जो कागज मिले हैं, उसके अनुसार भी लापता लोगों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। उन्होंने कहा कि लापता लोगों की खोजबीन भी जारी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top