केदारनाथ में मित्र पुलिस ने की महिलाओं और बच्चियों के साथ हाथापाई... - UK News Network
उत्तराखंड

केदारनाथ में मित्र पुलिस ने की महिलाओं और बच्चियों के साथ हाथापाई…

केदारनाथ धाम में मित्र पुलिस कहे जाने वाले जवान दादागिरी पर उतर आये हैं. ये पुलिस जवान यात्रियों के साथ बदसलूखी, मारपीट और गाली-गलौज तक करने से बाज नहीं आ रहे हैं.

रुद्रप्रयाग: विश्व विख्यात बाबा केदारनाथ धाम देश-विदेश के करोड़ों श्रद्धालु के लिए आस्था का प्रतीक है. लेकिन यहां खाकी वर्दी में तैनात रक्षक उन्हीं श्रद्धालुओं के लिए भक्षक बने हुए हैं. बाबा के दरबार में कन्याओं के साथ बदसलूकी का शर्मसार कर देने वाला एक मामला सामने आया है. केदारनाथ धाम में मित्र पुलिस कहे जाने वाले जवान दादागिरी पर उतर आये हैं. ये पुलिस जवान यात्रियों के साथ बदसलूखी, मारपीट और गाली-गलौज तक करने से बाज नहीं आ रहे हैं. यहां तक कि धाम में दर्शन करने आ रही महिलाओं और बच्चियों को भी खाकी वर्दी में तैनात इन जवानों की दरिंदगी का सामना करना पड़ रहा है. मित्र पुलिस की इस काली करतूत से श्रद्धालुओं में आक्रोश बना हुआ है

दरअसल, केदारनाथ मंदिर में जल चढ़ाने गये तीर्थयात्रियों के साथ मित्र पुलिस के जवानों ने दादागिरी करते हुए उनके साथ मारपीट की है. आरोप है कि पुलिस जवान मंदिर से घसीटकर श्रद्धालुओं को बाहर लाये और फिर उनके साथ हाथापाई की. बच्चियों को रोता देख आस-पास के तीर्थ पुरोहित आए और पूरी घटना की जानकारी ली.तीर्थ पुरोहित बताते हैं कि केदारनाथ धाम में मित्र पुलिस का काम सिर्फ पैसे वसूलने तक सीमित रह गया है. यात्रियों के साथ मारपीट और बदसलूखी आम बात हो गई है. वे बताते हैं कि केदारनाथ में पुलिस के जवान वीआईपी ड्यूटी के नाम पर पैसे वसूल रहे हैं. यात्रियों को घसीटकर मारा जा रहा है. जिससे देश-विदेश में केदारनाथ धाम की छवि लगातार खराब हो रही है. उन्होंने एक सुर में कहा कि ऐसे पुलिस कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. वहीं पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि कुछ तीर्थयात्री मंदिर के भीतर जल चढ़ाने में समय लगा रहे थे. ऐसे में पुलिस के जवानों ने उन्हें जल्दी पूजा करके बाहर आने का निवेदन किया. लेकिन एक तीर्थयात्री ने पुलिस जवान का कॉलर पकड़ लिया. उन्होंने कहा कि पुलिस जवान की ओर से मंदिर के भीतर बढ़ती भीड़ को संभालने का कार्य किया जा रहा था. लेकिन कुछ यात्री अव्यवस्था फैलाने में लगे थे. ऐसे में उन्हें बाहर लाया गया तो वे पुलिस पर ही आरोप लगाने लगे. उन्होंने कहा कि किसी भी तीर्थयात्री ने पुलिस कर्मियों के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं करवाई है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top