नंदप्रयाग सड़क चौड़ीकरण आंदोलन के 49वे दिन, सड़क पर उतरी महिलाएं..
उत्तराखंड

नंदप्रयाग सड़क चौड़ीकरण आंदोलन के 49वे दिन, सड़क पर उतरी महिलाएं..

नंदप्रयाग सड़क चौड़ीकरण आंदोलन के 49वे दिन, सड़क पर उतरी महिलाएं..

उत्तराखंड: घाट-नंदप्रयाग सड़क चौड़ीकरण की मांग को लेकर शुक्रवार को ब्लॉक विभिन्न गांवों की महिलाओं और ग्रामीणों ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया। महिलाओं ने डेड लेन सड़क चौडीकरण की मांग पर कार्रवाई होने तक आंदोल को जारी रखने की बात कही है।

उन्होंने कहा कि यदि सरकार की ओर से शीघ्र मांगों पर कार्रवाई नहीं की जाती तो वे बच्चों के साथ धरना स्थल पर आंदोलन शुरु कर देंगी।
घाट-नंदप्रयाग सड़क डेड लेन चौड़ीकरण की मांग को लेकर अनशन पर बैठे व्यापार मंडल अध्यक्ष चरण सिंह, महावीर सिंह, हरेंद्र सिंह, सुरेंद्र सिंह, कनिष्ठ उप प्रमुख भरत सिंह नेगी, सुरेंद्र सिंह रावत और दिनेश सिंह के समर्थन में शुक्रवार को क्षेत्रीय महिलाओं और ग्रामीणों ने कृषि यंत्रों के साथ घाट बाजार में रैली निकालकर प्रदर्शन किया। घाट में धरना स्थल से शुरु रैली मुख्य बाजार, कुरुड़ पुल होते हुए धरना स्थल पर जन सभा में तब्दील हुई।

 

जहां आंदोलनकारियों का समर्थन करने पहुंचे..

भाकपा माले के नेता इंद्रेश मैखुरी ने कहा कि उत्तराखंड राज्य आंदोलन के बूते बना है। ऐेसे में सरकारों को आंदोलनों से नाजरागी रखने के बजाय आंदोलनों के जरिये की जा रही न्यायोचित मांगों पर जन अपेक्षाओं के अनुरुप सकारात्मक रुख अपनाना चाहिए।वहीं स्थानीय महिला नेत्री कलावती देवी, मनीष देवी और अनीता देवी ने कहा कि यदि सरकार की ओर से यदि सरकार की ओर से मांग को लेकर शीघ्र सकारात्मक कार्रवाई नहीं की जाती तो बच्चों को लेकर धरना शुरु कर देंगी।

 

घाट-नंदप्रयाग सड़क डेड लेन चौड़ीकरण की मांग को लेकर अनशन पर बैठे व्यापार मंडल अध्यक्ष चरण सिंह, महावीर सिंह, हरेंद्र सिंह, सुरेंद्र सिंह, कनिष्ठ उप प्रमुख भरत सिंह नेगी, सुरेंद्र सिंह रावत और दिनेश सिंह के समर्थन में शुक्रवार को क्षेत्रीय महिलाओं और ग्रामीणों ने कृषि यंत्रों के साथ घाट बाजार में रैली निकालकर प्रदर्शन किया। घाट में धरना स्थल से शुरु रैली मुख्य बाजार, कुरुड़ पुल होते हुए धरना स्थल पर जन सभा में तब्दील हुई। जहां आंदोलनकारियों का समर्थन करने पहुंचे भाकपा माले के नेता इंद्रेश मैखुरी ने कहा कि उत्तराखंड राज्य आंदोलन के बूते बना है। ऐेसे में सरकारों को आंदोलनों से नाजरागी रखने के बजाय आंदोलनों के जरिये की जा रही न्यायोचित मांगों पर जन अपेक्षाओं के अनुरुप सकारात्मक रुख अपनाना चाहिए।

 

वहीं स्थानीय महिला नेत्री कलावती देवी, मनीष देवी और अनीता देवी ने कहा कि यदि सरकार की ओर से यदि सरकार की ओर से मांग को लेकर शीघ्र सकारात्मक कार्रवाई नहीं की जाती तो बच्चों को लेकर धरना शुरु कर देंगी। इस मौके पर पूर्व प्रमुख कर्ण सिंह, सुखवीर रौतेला, दीपक रतूड़ी, मनोज कठैत, रेखा देवी, ऊषा रावत, भागरथी देवी, राजेश प्रसाद आदि मौजूद थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top